स्वच्छ भारत अभियान 

स्वच्छ भारत अभियान

  स्वच्छ भारत अभियान

    स्वच्छ भारत अभियान (Swachh Bharat Abhiyan  )

स्वच्छ भारत अभियान प्रस्तावना :-

स्वच्छता कोई ऐसा कार्य नहीं है जो हमें किसी के दबाव में करना चाहिए । यह एक अच्छी आदत और स्वस्थ तरीका हैं हमारे अच्छे स्वस्थ जीवन के लिए। स्वच्छता का सीधा संबंध हमारे शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ है। अतः यह कहना गलत नहीं होगा कि एक स्वस्थ शरीर में ही एक स्वच्छ आत्मा का निवास होता है।

स्वच्छता ना केवल हमारे घर सड़क तक के लिए ही जरूरी होती है यह देश और राष्ट्र की आवश्यकता होती हैं इससे ना केवल हमारा घर आंगन ही सोचो रहेगा अभी तो पूरा देश ही स्वच्छ रहेगा इसी उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही |

स्वच्छ भारत अभियान जो कि हमारे देश के प्रत्येक गांव और शहर में प्रारंभ की गई हैं जो देश के प्रत्येक गली गांव कि प्रत्येक सड़कों से लेकर शौचालय का निर्माण कराना और देश के बुनियादी ढांचे को बदलना ही इस अभियान का महत्वपूर्ण उद्देश्य है।

 

स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत:-

भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने महात्मा गांधी जी की जयंती 2 अक्टूबर 2014 को स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की। स्वच्छ भारत अभियान को भारत मिशन और स्वच्छता अभियान भी कहा जाता है। गांधी जी की जयंती के शुभ अवसर पर माननीय श्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा महात्मा गांधी जी की 145 सी जयंती के अवसर पर इस अभियान की शुरुआत की गई।

2 अक्टूबर 2014 को उन्होंने देश को संबोधित करते हुए संपूर्ण देश को स्वच्छ भारत अभियान में भाग लेने और इसे सफलतापूर्वक पूर्ण करने को कहा। साफ सफाई के संदर्भ में यह सबसे बड़ा अभियान हैं। देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने देश को एक मुहिम से जुड़ने के लिए जन आंदोलन बनाकर स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की।

स्वच्छ भारत अभियान के उद्देश्य:

1. खुले में शौच बंद करवाना जिसके तहत हर साल हजारों बच्चों की मौतें हो जाती हैं।
2. लगभग 11 करोड 13 लाख व्यक्तिगत,सामूहिक शौचालय का निर्माण करवाना जिसमें 134000 करोड रुपए खर्च होंगे।
3. उचित स्वच्छता का उपयोग करके लोगों की मानसिकता को बदलना।
4.शौचालय उपयोग को बढ़ावा देना और सार्वजनिक जागरूकता को शुरू करना।
5.गांवो को इस अभियान से जोड़कर साफ रखना।
6.2019 तक सभी घरों में पानी की पूर्ति सुनिश्चित करवाना, गांव में पाइप लाइन लगवाना जिससे स्वच्छता बनी रहे।
7.ग्राम पंचायत के माध्यम से ठोस और तरल अपशिष्ट के लिएज अच्छी प्रबंधन की व्यवस्था करवाना।
8.सड़के फुटपाथ और बस्तियां साफ रखना।
9. साफ-सफाई के जरिए सभी में स्वच्छता के प्रति जागरुकता पैदा करना।

आज से 100 वर्ष पहले गांधी जी ने एक स्वच्छ भारत का सपना देखा जो आज साकार हो रहा है। हमें यह पता है कि स्वच्छता का हमारे जीवन में महत्वपूर्ण स्थान है। परंतु हमने इसका अर्थ सिर्फ स्वयं के शरीर की सफाई से लगा लिया है यह गलत है स्वच्छता को सिर्फ शरीर की सफाई तक सीमित करके हमने उसके अर्थ को संक्रींण बना दिया है। स्वच्छता भक्ति के बाद दूसरी सबसे महत्वपूर्ण चीज है ।

गांधीजी के अनुसार “जब तक आप झाड़ू और बाल्टी अपने हाथों में नहीं लेते तब तक आप अपने गांव या कस्बे को स्वस्थ नहीं कर सकते” इसी प्रेरणा से प्रेरित होकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत स्वयं झाड़ू लगाकर की थी और भारत जैसे बड़े क्षेत्रफल वाले देश में प्रधानमंत्री के दृढ़ संकल्प से गांधी जी के इस सपने को पूर्ण कर दिखाय।

सफलतम क्रियान्वयन

स्वच्छ भारत अभियान के सफलतम क्रियान्वयन के लिए हमारे प्रधानमंत्री जी को अमेरिका में ‘गोलकीपर ग्लोबल गोल्स’ नामक पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत मध्यप्रदेश के इंदौर शहर को लगातार तीन वर्षों से भारत के सबसे स्वच्छ शहर के लिए पुरस्कृत किया जा रहा है। स्वच्छ भारत अभियान ने भारत की जनता में वैचारिक क्रांति उत्पन्न कर दी है अब लोग न सिर्फ स्वयं को स्वच्छ रखने की अपीतू अपने गांव ,जिला एवं शहर को भी स्वच्छ रखने की बात करते हैं और इस दिशा में अपना संपूर्ण योगदान भी दे रहे हैं।

भारत में बहुत सी ऐसी सामाजिक संस्थाएं भी हैं जो स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत अपना योगदान दे रही हैं इन संस्थाओं के लोग गांव कस्बों और शहरों में जाकर लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरुक करते हैं और उन्हें स्वच्छता से होने वाले फायदों से अवगत कराते हैं।

भारत देश की आबादी सवा सौ करोड़ है और इस मुहिम को चलाना एवं भली-भांति इसका संपादन करना एक बहुत बड़ी चुनौती थी,हमें इस बात का गर्व है कि भारत सरकार यह करने में सफल हुई ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि इस अभियान ने जन भावना का रूप ले लिया है। स्वच्छ भारत अभियान एक ऐसी पहल जिसमें हर जाति,वर्ग और धर्म के लोगों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया और इसे सफल भी बनाया।

स्वच्छ भारत अभियान में योगदान:-

स्वच्छ भारत अभियान में आम लोगों और सरकारी मंत्रालय के साथ ही प्रधानमंत्री द्वारा सहयोग प्रदान करने वाले लोगों में मृदुला सिन्हा, बाबा रामदेव, शशि थरूर कमल हासन, सलमान खान, प्रियंका चोपड़ा जैसे बड़े-बड़े हस्तियां ने भी अपना योगदान दिखाया है।

उपसंहार:-

स्वच्छ भारत अभियान की कार्यविधि अब समाप्त हो गई हैं फिर भी इस अभियान ने लोगों के दिलों में स्वच्छता की वह मशाल जला दी हैं जॉब रचने वाली नहीं है यदि हम सब स्वच्छ भारत अभियान को अपने जीवन का एक हिस्सा बना लें तो वह दिन दूर नहीं जब भारत का सिर्फ एक शहर ही नहीं अपितु संपूर्ण भारत स्वच्छ हो जाएगा।

गांधी जी के द्वारा एक कथन कहां गया “जो परिवर्तन आप दुनिया में देखना चाहते हैं वह सबसे पहले अपने आप में लागू करें” गांधी जी द्वारा कहा गया यह कथन स्वच्छता पर ही आधारित हैं। इस कथन के अनुसार स्वच्छता की जागरूकता की मशाल सभी में पैदा होनी चाहिए। इसके तहत स्कूलों में भी स्वच्छ भारत अभियान के कार्य होने लगे हैं स्वच्छता से ना केवल हमारा तन साफ रहता है हमारा मन भी साफ रहता है।

स्वच्छ भारत अभियान की मशाल आज हमारे पूरे भारत के लिए आवश्यक है जिसके तहत कई कार्य किए जा रहे हैं। इसी के मध्य नजर रखते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी सरकारी भवनों की सफाई और स्वच्छता को ध्यान में रखकर तंबाकू, गुटका ,पान आदी उत्पादों पर प्रतिबंध लगा दिया है जिसकी जरूरत उत्तर प्रदेश में ही नहीं बल्कि पूरे भारत देश में आवश्यक हैं। इसी प्रकार “स्वच्छ भारत- स्वच्छ भारत” का सपना भी सच हो जाएगा।

READ MORE

किसान क्रेडिट कार्ड (KCC )

Leave a Comment